The Way Of Success

GS Guru Breaking News

कोरोना (Covid-19)एक महामारी

 कोरोना (Covid-19)एक महामारी

-------------------------------------------------
सौ से ज्यादा देशों को अपनी चपेट में लेने वाले सवा लाख से ज्यादा लोगों को संक्रमित करने वाले और करीब 5000 लोगों की जान लेने वाले कोरोनावायरस से फैलने वाली बीमारी को महामारी घोषित कर दिया गया है अभी तक इसका कोई मुकम्मल इलाज नहीं खोजा जा सका है लेकिन इसे उचित रोकथाम के  बारे में कुछ समझदारी विकसित करके रोका जा सकता है आइए पहले जानते हैं कोरोनावायरस के बारे में

 GsGuru



 उत्पत्ति
                  2019 के आखिरी महीनों में चीन के वुहान शहर से  शुरू हुए इस वायरस के बारे में चीन ने शुरुआत में इससे जुड़ी खबरों को दबाना शुरू कर दिया जब पानी सर से ऊपर बहने लगा तो इसके समुचित इलाज और निदान के कदम उठाए जाने शुरू हुए और इस मर्ज की पहचान की जाने लगी कि आखिर कोरोनावायरस से कौन सी बीमारी हो रही है 23 January ko vaahaanInstitute of virology के कोरोना वायरस विशेषज्ञ सी झेंग ली ने पाया कि को कोविड 19 की जीनोम सीक्वेंसिंग चमगादड़ो में पाए जाने वाले वायरस से 96.2 फीसदी मिलती-जुलती है हालांकि अभी भी इस बात का कोई पुख्ता प्रमाण नहीं मिला है कि यह महामारी इस छोटे से स्तनधारी की वजह से ही फैली है चमगादड़ के अतिरिक्त पैंगोलिन नामक एक जंतु भी इसका वाहक माना जा रहा है

⇛ विशेष
                 चमगादड़ का कंकाल हमारे जैसा ही होता है जो हमारी पूर्वज साझेदारी का  प्रतीक है चमगादड़ के साथ अलग-अलग वायरसों का भंडार होता है और इस जीव से आने वाले वायरस कुछ गंभीर किस्म की बीमारियां फैलाते हैं वैसे तो चमगादड़ पर्यावरण के लिहाज से अहम है दुनिया भर में इनकी 1300 से अधिक प्रजातियां हैं जो समस्त स्तनधारियों का 20 फीसद है इंसानी सभ्यता की शुरुआत से ही यह जीव हमारे अत्यंत निकट रहा है विशेषज्ञ मानते हैं कि चमगादड़ लगातार उड़ते रहते हैं जिस वजह से इनका प्रतिरक्षी तंत्र बहुत मजबूत हो जाता है.

⇛  रोकथाम कैसे कर सकते हैं
             खांसी और छींक की छोटी बूंदे जब किसी भी सतह पर पड़ती हैं तो शीघ्र ही सो जाती हैं लेकिन इसमें मौजूद वायरस सक्रिय होते हैं इसलिए खांसी और छींक आने पर टिशू पेपर का प्रयोग करें और उसके पश्चात उसे डस्टबिन में ही डालें
 लकड़ी धागे और त्वचा वायरस के साथ मजबूती से संपर्क में आते हैं जबकि स्टील पेंसिल ऑन और टेफलॉन जैसे प्लास्टिक का गुड्स के सर्वथा विपरीत होता है जितनी चिकनी सता होगी उससे वायरस के चिपकने की आशंका उतनी ही कम होती है जब आप किसी स्टील की ऐसी सतह को छूते हैं जिस पर वायरस मौजूद होता है तो वायरस आपकी त्वचा से चिपक कर आपके हाथ पर आ जाता है  
इसके बावजूद अभी तक आप संक्रमित की श्रेणी में नहीं आएंगे लेकिन जैसे ही अपने हाथ से खुद का चेहरा छोड़ेंगे तो वायरस आपके चेहरे पर दस्तक दे देगा अब वायरस आप के अंदरूनी हिस्सों तक नाक आंख और मुंह के माध्यम से पहुंच बनाने को तैयार रहेगा अभी आप के बचने की संभावना है अगर आपका प्रतिरक्षी तंत्र वायरस को मार देता है तो आप सुरक्षित हैं अन्यथा संक्रमित होने में देर नहीं 
माना जा रहा है कि covid-19 अनुकूल सतहों पर घंटों सक्रिय रह सकता है संभवतया यह अवधि 1 दिन की भी हो सकती है सूर्य की किरणें और गर्मी वायरस को सक्रिय  बने रहने में अहम भूमिका निभाती है 
 किसी भी सतह को छूने किसी से हाथ मिलाने या छूने के बाद हाथ अवश्य धुले बिना धुले अपने हाथों को आंख मुंह नाक से दूर रखें

⇛ Notice-:
 कोरोना वायरस के 30 डिग्री तापमान पर खत्म होने की अटकलों से दूर रहें ऐसा कोई रिसर्च या अध्ययन अभी साबित नहीं कर पाया है कि 30 डिग्री तापमान पर कोरोनावायरस का असर खत्म हो जाता है

GsGuru         www.gsguru.online    Corona

No comments