The Way Of Success

GS Guru Breaking News

मानव रोग एवं प्रतिरक्षा तंत्र Human Diseases And Immune System( Part-1)

www.gsguru.online/2020/03/human-diseases-and-immune-system-part-2.html

मानव रोग एवं प्रतिरक्षा तंत्र ( Human Diseases And Immune System )


स्वस्थ शरीर में उत्पन्न होने वाली शारीरिक मानसिक एवं कार्यकीय  कमी ही रोग कहलाती है हम रोगों को दो श्रेणियों में विभाजित कर सकते हैं

1-जन्मजात रोग  2-उपार्जित रोग

1-जन्मजात रोग - 

जन्म के समय से ही जो रो मनुष्य के शरीर में विद्यमान रहते हैं जन्मजात रोग कहलाते हैं

2-उपार्जित रोग - 

जन्म के पश्चात विभिन्न कारकों से उत्पन्न होने वाले रोग ही उपार्जित रोग कहलाते हैं

प्रमुख जन्मजात रोग

वर्णांधता Colour Blindness


यह एक प्रकार का अनुवांशिक रोग है इस रोग से ग्रसित मनुष्य को हरा रंग और लाल रंग पहचानने में दिक्कत होती है  इसलिए वर्णांध लोग रेलवे में नौकरी नहीं कर सकते
इस रोग से मुख्यतः पुरुष ही प्रभावित होते हैं

हीमोफीलिया Hemophilia 

हीमोफीलिया से ग्रस्त व्यक्ति को चोट लगने या कट जाने के बाद काफी समय तक रक्त स्राव होता रहता है एवं थक्का नहीं बन पाता है इस रोग की मुख्य वाहक स्त्रियां होती हैं यह रोग प्रति हिमोफिलिक कारक के कारण होता है

टर्नर सिंड्रोम Turner Syndrome

यह रोग अर्धसूत्री विभाजन में अनियमितता के कारण उत्पन्न होता है इस रोग की वजह से स्त्रियों में बांझपन जैसे लक्षण पाए जाते हैं

क्लिनफेल्टर सिंड्रोम Klinefelter Syndrome 

यह रूप पुरुषों में नपुंसकता का वाहक होता है इसमें जाइगोट की संख्या सामान्य से अधिक हो जाती है


रंजक हीनता एवं गैलेक्टोसेमिया भी एक तरह के अनुवांशिक रोग है रंजक हीनता में त्वचा में सामान्य वर्ग की उपस्थिति नहीं होती है यह मिलेनिन वडक्के ना बनने के कारण होता है एवं गैलेक्टोसेमिया में मुख्यतः मानसिकता में कमी देखी जाती है जो गैलेक्टोज उपापचय में कमी के कारण होती है

मानव रोग एवं प्रतिरक्षा तंत्र Human Diseases And Immune System( Part-2)- to be continued

यदि आपको उपरोक्त जानकारी लाभप्रद लगी हो एवं पसंद आई हो तो इसे दोस्तों के साथ शेयर अवश्य करें

No comments